दूर अज्ञान के हो अँधेरे, तू हमें ज्ञान की रोशनी दे

By / December 7, 2014 / Philosophy in Films
इतनी शक्ती हमे देना दाता, मन का विश्वास कमजोर हो ना 
हम चले नेक रस्ते पे हम से, भूलकर भी कोई भूल हो ना 

दूर अज्ञान के हो अँधेरे, तू हमें ज्ञान की रोशनी दे 
हर बुराई से बचते रहे हम, जितनी भी दे भली ज़िन्दगी दे
बैर हो ना किसी का किसी से, भावना मन में बदले की हो ना

हम ना सोचें हमें क्या मिला हैं, हम यह सोचे किया क्या हैं अर्पन
फूल खुशियों के बाँटे सभी को, सब का जीवन ही बन जाये मधुबन
अपनी करुणा का जल तू बहा के, कर दे पावन हर एक मन का कोना

 

 

गीतकार : , गायक : पुष्पा पागधरे – सुषमा श्रेष्ठ, संगीतकार : कुलदिप सिंग, चित्रपट : अंकुश – १९८६ / Lyricist : , Singer : Pushpa Pagdhare – Sushma Sreshtha, Music Director : Kuldeep Singh, Movie : Ankush – 1986

About Author

Brijesh

Back to Top
%d bloggers like this: