कोई सहारा, मझधारे में मिले जो अपना सहारा हैं, ओ माझी रे, ओ माझी रे… अपना किनारा, नदियाँ की धारा हैं

By / June 2, 2014 / Philosophy in Films

O Majhi Re / ओ माझी रे, अपना किनारा नदीयाँ की धारा हैं

गीतकार : गुलजार, गायक : किशोर कुमार, संगीतकार : राहुलदेव बर्मन, चित्रपट : खुशबू – १९७५ / Lyricist : Gulzar, Singer : Kishore Kumar, Music Director : Rahuldev Burman, Movie : Khushboo – 1975 : 

ओ माझी रे, ओ माझी रे
अपना किनारा, नदियाँ की धारा हैं 

साहिलों पे बहनेवाले कभी सुना तो होगा कही
कागजों की कश्तियों का कही किनारा होता नही
ओ माझी रे, माझी रे
कोई किनारा जो किनारे से मिले वो अपना किनारा हैं 

पानीयों में बह रहे हैं , कई किनारे टूटे हुये 
रासतों में मिल गये हैं सभी सहारे छूटे हुये 
कोई सहारा मझधारे में मिले जो अपना सहारा हैं 

 

About Author

Brijesh

Leave a Reply

Back to Top
%d bloggers like this: