Heart Mafia : A must read

posted in: Fitness Fundas, Food Fundas | 0

Mr. B. at the age of 58 had to undergo four-vessel coronary bypass grafting in Sept 2,2004. In 2005 he underwent an emergency pleural (lungs) effusion surgery. Later on Feb 11, 2010, he underwent 2 coronary stent implantations (angioplasties) and … Continued

Truth about Allopathy

posted in: Fitness, Food | 0

Allopathy – A method of treating diseases with remedies that produce effects different from those caused by the disease itself. Homeopathy – A method of treating diseases with remedies that produce effects similar to those caused by the disease itself. The term “allopathy” was … Continued

The greatest nuisances of Life !

posted in: Family | 0

राजस्थानी में ः कोर्ट केवह मनह चलार देख, पुलिस केवह म्हारह कनह आर देख, मकान केवह मनह बणार देख, ब्याव केवह मनह रचार देख ! In English : Court says, start me  then I will let you know , Police … Continued

पहला सुख – निरोगी काया

posted in: Fitness Fundas | 0

पहला सुख – निरोगी काया, दूजा सुख – घर में हो माया, तीजा सुख – सुलक्षणा नारी, चौथा सुख – हो पुत्र आज्ञाकारी, पाँचवां सुख – हो सुन्दर वास, छठा सुख – हो अच्छा पास, साँतवां सुख – हो मित्र … Continued

सात सुख

posted in: Family | 0

पहला सुख – निरोगी काया, दूजा सुख – घर में हो माया, तीजा सुख – सुलक्षणा नारी, चौथा सुख – हो पुत्र आज्ञाकारी, पाँचवां सुख – हो सुन्दर वास, छठा सुख – हो अच्छा पास, साँतवां सुख – हो मित्र घनेरे, और नहीं जगत में दुखः बहुतेरे !   

सत्य

सत्य अनन्त है , पुस्तक आदि में सीमित नहीं हो सकता ,  सत्य अपना परिचय देने में स्वयं स्वतन्त्र है  यह विचार है, उस सन्त के जो पुस्तक या लेख में अपना नाम एवं फोटो छपवाने से संकोच करते थे, क्योंकि वे सत्य  की आवाज को नाम रूप आदि में आबद्ध नहीं करना चाहते थे! उन संत के सिद्धान्तानुसार उनका नाम नहीं दिया जा रहा … Continued

The Greatest things

The Best Day – Today The Greatest Sin – Fear The Best Gift – Forgiveness The Meanest Feeling – Jealousy The Most Expensive Indulgence – Hate The Greatest Trouble Maker – Talking Too Much The Greatest Teacher – One who makes … Continued

मानवता के मूल सिद्धान्त

मानवता के मूल सिद्धान्त 1. आत्म-निरीक्षण, अर्थात्‌ प्राप्त विवेक के प्रकाश में अपने दोषों को देखना । 2. की हुई भूल को पुन: न दोहराने का व्रत लेकर, सरल विश्वासपूर्वक प्रार्थना करना । 3. विचार का प्रयोग अपने पर और … Continued

छ: दर्शनोंसे निराला दर्शन

वे  महात्मा, क्या थे  महाराज ! मेरे मनसे अगर आप पूछो तो नये दार्शनिक थे!  जैसे योग है, सांख्य है, पूर्व मीमांसा है, उत्तर मीमांसा है, न्याय है, छ: दर्शन है। छ: दर्शनोंसे निराला दर्शन है उनका। इतना किसने समझा … Continued